Wednesday 6 May 2009

यह एक पुरानी कविता है, कदाचित सन 90.91 की, तब उमर होगी 20.22 साल. बचपना लगे तो एडवांस में माफी. पर अपन राम की नजर में कविता स्वान्तः सुखाए है.
उसे देखा था
सड़क पार करते हुए
पसीने से तर.बतर
मेरी नायिका थी वह
एक दिन उसे देखा
बरामदे से झांकते हुए
गमगीन उदास आंखें
जंजीरों में कैद
किसी की बेटी थी वह
फिर उसे देखा
लाल जोड़े में
लजाती.सकुचाती
एक लाल कार में
किसी की पत्नी थी वह
एक रात वह सपने में आई
चिल्लाई, कुछ कहा
धन, सोना
अब मैं समझा
न नायिका
न बेटी
न पत्नी
किसी घनवान की
जायदाद थी वह

2 comments:

pankaj said...

sir
namashkar.
aapki kavita badi hi achhi lagi. bade dino baad aapki lekhni ka fir ehsas hua. mai kabhi kabhi is site per ghum leta hun. pahli baar ehsaas hua ki padhte rahna chahiye. mera to padhna hi band sa ho gaya hai.
aapka lekh aur kavitaen padhkar laga ki padhna chahiye. aapki lekhni ko mai bahut yaad karta hun.

pankaj jain

S B Tamare said...

climax is totally beyond thoughts.
while you proclaimed poem was written in row age is also stunning along with composition.
excellent!
a little but perfect journey of woman kind has been beautifully described by you making you to deserve to be rendered a lot of thanks.